मैंने दुनिया को, अब बंद आँखों से देखना सीख लिया है..

Scenic Beauty, Poem, Riverside, Mountains, Landscape

मैंने चिंगारियों को, अक्सर अंगारे बनते हुए देखा है..

मैंने टूटते सितारों को, सपने बनते देखा है..

मैंने गिरते आंसुओं को, अक्सर ख्वाब बुनते हुए देखा है..

मैंने बिखरे हुए खिलौनों को, दुनिया की ऊंचाइयों को छूते देखा है..

मैंने गहरे सन्नाटे के शोर को, अक्सर चीख़ते हुए देखा है..

मैंने मुरझाये हुए फूल को, खुशियां लौटाते हुए देखा है..

मैंने हारे हुए इंसान को, अक्सर दुनिया जीतते हुए देखा है..

मैंने रूठे हुए को, लोगों को हसाँते हुए देखा है..

मैंने अनपढ़ो को, अक्सर ज्ञान बांटते हुए देखा है..

मैंने ईमानदारों को, सच खरीदते हुए देखा है..

मैंने खोटे सिक्के को, अक्सर दौलत लुटाते हुए देखा है..

मैंने सुलघते हुए सूरज को, बादलों में नम होते हुए देखा है..

मैंने बुझते हुए दीपक को, अक्सर अँधेरा भगाते हुए देखा है..

मैंने खोये हुए दिल को, लोगों को मिलाते हुए देखा है..

मैंने गरीबों को, अक्सर इंसानियत का पाठ पढ़ाते हुए देखा है..

मैंने दुनिया को, अब बंद आँखों से देखना सीख लिया है..

.

.

.

– English Phonetics –

Maine Chinagariyon ko, aksar Angaare bante huye dekha hai,

Maine toot-te Sitaaro ko, Sapne bante dekha hai,

Maine girte Aansuon ko, aksar Khwaab bunte huye dekha hai,

Maine bikhre Khilono ko, Duniya ki Unchaaiyon ko choo-te huye dekha hai,

Maine gehre Sannaate ke Shor ko, aksar Cheekhte huye dekha hai,

Maine murjhaye Phool ko, Khushiyan lauta-te huye dekha hai,

Maine haare huye Insaan ko, aksar Duniya jeet-te huye dekha hai,

Maine Roothe huye ko, logo ko Hasate huye dekha hai,

Maine Unpadho ko, aksar Gyaan baant-te huye dekha hai,

Maine Imaandaro ko, Sach khareedte huye dekha hai,

Maine khotte Sikke ko, aksar Daulat loota-te huye dekha hai,

Maine sulagthe Sooraj ko, Baadalo mein namm hote dekha hai,

Maine bujhte Deepak ko, aksar Andhera bhagaate huye dekha hai,

Maine khoye huye Dil ko, logon ko Milate huye dekha hai,

Maine aksar Gareebon Ko, Insaaniyat ka path padhate dekha hai,

Maine Duniya Ko, Ab Band Aankhon Se Dekhna Seekh Liya Hai..

Share The Journey

Leave a Comment